संचालक लोक शिक्षण ने स्कूली बच्चों के साथ किया मध्यान्ह भोजन, ई-साक्षरता केन्द्र के शिक्षार्थियों से भी हुए रू-ब-रू

संचालक लोक शिक्षण ने स्कूली बच्चों के साथ किया मध्यान्ह भोजन, ई-साक्षरता केन्द्र के शिक्षार्थियों से भी हुए रू-ब-रू

रायपुर। संचालक लोक शिक्षण संचालनालय एस. प्रकाश ने आज महासमुंद, बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के हायर सेकण्डरी, हाई स्कूल, मिडिल और प्रायमरी स्कूल का औचक निरीक्षण किया। श्री प्रकाश ने कसडोल विकासखंड के ग्राम बल्दाकछार में स्कूली बच्चों के साथ बैठक कर मध्यान्ह भोजन किया, ई-साक्षरता केन्द्र बलौदाबाजार के शिक्षार्थियों से रू-ब-रू भी हुए।
संचालक लोक शिक्षण सुबह महासमुंद जिले के बेलसोंडा हाईस्कूल पहुंचे और वहां अटल टिंकरिंग लैब का अवलोकन कर छात्र-छात्राओं से बातचीत की। मिडिल स्कूल में बच्चों से प्रश्न पूछा प्रथम विश्व युद्ध कब हुआ, सही उत्तर मिलने पर उन्होंने प्रोत्साहन स्वरूप चॉकलेट का वितरण किया। एक प्रश्न के उत्तर में कुछ छात्राओं ने बताया कि गणित से ज्यादा अंग्रेजी कठिन विषय लगता है। इस संबंध में उन्होंने अंग्रेजी विषय के अध्यापन पर विशेष जोर देने कहा। संचालक लोक शिक्षण इसके पश्चात अचानक मीडिल स्कूल छपोराडीह पहुंचे। यहां 11 शिक्षकों में से 9 शिक्षक उपस्थित मिले, एक शिक्षक अवकाश पर और दूसरा शिक्षक मान्यता के काम से माध्यमिक शिक्षा मंडल कार्यालय में काम से जाने की जानकारी दी गई। उन्होंने नाराजगी जताई कि जब सब कुछ ऑनलाईन हो रहा है तो तो जाने की क्या आवश्यकता है। स्कूल में ‘लर्निंग आऊट कम‘ अर्थात बच्चों की दक्षता संबंधी जानकारी दीवार पर नहीं लिखे जाने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए इस जानकारी को चस्पा करने और उसकी फोटो खींचकर भेजने के निर्देश संबंधित को दिए।

बोरिद प्रायमरी स्कूल में एक भी बच्चा ड्रॉप आऊट नहीं

संचालक एस. प्रकाश दूरस्थ अंचल के हाथी प्रभावित क्षेत्र में 5 किलोमीटर कच्चे रास्ते से जाकर ग्राम बोरिद के प्रायमरी स्कूल पहुंचे। यहां एक शिक्षकीय स्कूल के बच्चों के परफारमेंस ने उन्हें अभिभूत कर दिया। यहां उन्होंने सभी बच्चों को प्रोत्साहन स्वरूप चॉकलेट का वितरण किया। स्कूल के छात्र-छात्राओं ने न केवल कविता सुनाई बल्कि पुस्तकों के पाठों का पठन भी अच्छे से किया। स्कूल के शिक्षक बाबूलाल ध्रुव विद्यालय से संबंधित सभी जानकारी टीम्स-टी-एप में समय-समय पर अपलोड भी करते हैं। श्री प्रकाश ने शिक्षक की मेहनत की तारीफ की इस गांव की आबादी लगभग 400 है और स्कूल की विशेषता यह है कि एक भी बच्चा ड्रॉप आऊट नहीं है।

एस. प्रकाश ने इसके पश्चात बलौदाबाजार के ग्राम बिनौरी स्कूल पहुंचे उन्होंने यहां किचन गार्डन बनाने और स्कूल की साफ-सफाई कर गेट बनवाने और पोताई करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने निरीक्षण के दौरान कक्षावार दक्षता प्रपत्र, किचन गार्डन, विज्ञान प्रयोगशाला की सामग्री का उपयोग अनुपस्थित शिक्षकों की उपस्थिति, नवाचारी गतिविधियों को बढ़ावा देने, कमजोर बच्चों पर विशेष ध्यान देने, मध्यान्ह भोजन की गुणवत्ता, राज्य स्तरीय आंकलन, टीम्स-टी-एप पर जानकारी अपलोड करने पर जोर दिया।

राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण के संचालक एस. प्रकाश मुख्यमंत्री शहरी साक्षरता कार्यक्रम के अंतर्गत बलौदाबाजार में संचालित ई-साक्षरता केन्द्र के शिक्षार्थियों से रू-ब-रू हुए। इस साक्षरता केन्द्र में चौथे चरण के शिक्षार्थियों ने नवाचारी कार्यक्रम की सराहना करते हुए कम्प्यूटर की संख्या बढ़ाने का अनुरोध किया। शिक्षार्थियों ने बताया कि डीजिटल साक्षरता की ट्रेनिंग लेने के बाद उन्होंने घर से ऑनलाईन सामान क्रय करने और रिजर्वेशन का कार्य कर रहे है। श्री प्रकाश ने शिक्षार्थियों के कार्यों की प्रशंसा करते हुए इस केन्द्र को आकर्षक बनाने और पोताई कराने के निर्देश दिए।

संचालक एस. प्रकाश के निरीक्षण के दौरान उनके साथ लोक शिक्षण संचालनालय के सहायक संचालक महेश नायक और राज्य साक्षरता मिशन के सहायक संचालक प्रशांत पाण्डेय भी थे। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा विभाग के संबंधित क्षेत्र के अधिकारी भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *